Wednesday, January 28, 2015

आधी रात माघ की



आधी रात माघ की, सड़क किनारे खोपची में


खेंदरी भीतर से दांत कटकटाने की आवाज आ रही थी

रात के मरघटी सन्नाटे में गूंज दूर तक जा रही थी


बदन के थरथरी को काबू करने का असफल जोर
आस दिल में जगी थी जल्द होने वाली है भोर

मगर खोपची के छेदों से होकर आ रहा था बैरी पछवा
हजारों सुई लिए काँटों संग कहर बरपा रहा था पछवा

सड़क से कुछ पन्नी अख़बार चुन कर जलाया जाय
मगर कैसे इस बेदर्दी ठण्ड में चिथरों से निकला जाए

असमंजस उहापोह ढाढस और उम्मीद
माघ की शीतलहरी रात और जीने की जिद

प्रलयंकारी रात के समर पश्चात जीवन दीप लिए
यही जिद उसे जिन्दा रखता है अगले सुबह के लिए

सुबह होते ही पेट के तपन को भी शांत करना है
पापी क्षुधा की समाप्ति को पुनः दर दर भटकना है.

1 comment:

  1. बेहतरीन प्रस्तुति
    एक बार हमारे ब्लॉग पुरानीबस्ती पर भी आकर हमें कृतार्थ करें _/\_
    http://puraneebastee.blogspot.in/2015/03/pedo-ki-jaat.html

    ReplyDelete